सुभाष चंद्र बोस के बारे में रोचक तथ्य और जानकारी

नमस्कार दोस्तों आज 23 जनवरी का दिन है और आज ही के दिन हमारी नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी का जन्म हुआ था और आज कि इस पोस्ट में हम सुभाष चंद्र बोस जी के बारे में कुछ रोचक जानकारियां जानेंगे जो शायद आपने कभी ना पड़ी हो और हम यह भी जानेंगे कि पिछले वर्ष 23 जनवरी 2021 को हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्रीमान नरेंद्र मोदी जी ने इस दिन को किस रूप में मनाने की घोषणा की थी और अभी हम इसके अंदर बहुत सारी रोचक तथ्य को जानेंगे तो हमारे साथ बिल्कुल बने रहिए अंत तक धन्यवाद।

हमारे महान नेता जी सुभाष चंद्र बोस के बारे में रोचक तथ्य। |
Image Credit : Canva | facts in hindi | rochak tathya |

हमारे नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी के बारे में कुछ रोचक तथ्य | Facts in Hindi |

Table of Contents

Q.1. आज का दिन किस दिवस के रूप में जाना जाता है?

पिछले साल 23 जनवरी 2021 को नेताजी की 125 वीं जयंती पर भारत सरकार ने इस दिन को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया था।

Q.2. क्या आप को नेता जी के पिताजी के बारे में यह बात पता थी?

क्या आपको पता ही नेता जी के पिता जी जिनका नाम जानकीनाथ बोस था उनको अंग्रेजी सरकार ने रायबहादुर का खिताब दिया था। क्या आपको यह तथ्य पहले से मालूम था?

Q.3. नेताजी सुभाष चंद्र बोस का परिवार और उसकी कुछ बातें।

क्या आपको यह बात पता है कि सुभाष चंद्र बोस जी के माता पिता के 14 संतानें थी जिसमें 9 बेटियां और 8 बेटे थे। नेताजी उनकी नौवीं संतान थी और पांचवी बैठे थे अपने सभी भाइयों में से सुभाष को सबसे अधिक लगाव शरदचंद्र से था और शायद चंद्र दूसरे बेटे थे।

Q.4. सुभाष चंद्र बोस जी की किशोरावस्था की यह बात क्या आपको पता थी?

क्या आपको पता है सुभाष चंद्र बोस ने मात्र 15 वर्ष की आयु में ही ने विवेकानंद साहित्य का पूर्ण अध्ययन कर लिया था।

Q.5. हमारी नेताजी सुभाष चंद्र बोस आखिर कौन-कौन से व्यक्तियों से प्रेरित थे?

अभी सवाल का भी जवाब हम आपको बताते हो और जो आपको क्या पता है कि नेताजी के दिलों दिमाग पर तो सिर्फ स्वामी विवेकानंद और महर्षि अरविंद घोष के आदर्शों का ही कब्जा था।

Q.6. सुभाष चंद्र बोस को अपने जीवन काल में कुल कितनी बार कारावास हुआ था?

अपने सार्वजनिक जीवन में सुभाष को कुल 11 बार कारावास हुआ था सबसे पहले उन्हें 16 जुलाई 1921 में 6 महीने का कारावास हुआ था।

Q.7. क्या नेताजी सुभाष चंद्र बोस का कोई अच्छा दोस्त भी था?

जी हां उनका एक खास मित्र था और वह आयरलैंड में रहता था दरअसल बात यह है कि जब सुभाष चंद्र बोस आयरलैंड गए थे तो वहां के नेता डी वालेरा सुभाष के अच्छे दोस्त बन गए थे।

Q.8. क्या आपको सुभाष चंद्र बोस की यह खास बात पता थी?

कांग्रेस के 51 वें अधिवेशन में जब सुभाष जी को अध्यक्ष पद के लिए चुना गया था इस अधिवेशन में सुभाष का अध्यक्षीय भाषण बहुत ही प्रभावी हुआ किसी भी भारतीय राजनीतिक व्यक्ति ने शायद ही इतना प्रभाव भाषण कभी दिया हो।

Image Credit: Canva | रोचक तथ्य | Facts in Hindi |

Q.9. क्या आपको नेता जी के कॉलेज की यह बात पता थी?

नेताजी के कॉलेज के दिनों की एक बात है वह यह है कि एक अंग्रेजी शिक्षक के भारतीयों को लेकर आपत्तिजनक बयान पर उन्होंने उसका विरोध किया था। जिसकी वजह से उन्हें कॉलेज से निष्कासित कर दिया गया था।

Q.10. क्या आपको नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी की बेटी अनिता बोस के बारे में यह बात पता थी?

सुभाष चंद्र बोस जी की बेटी अनिता बोस जर्मनी में एक लोकप्रिय अर्थशास्त्री थी।

Q.11. नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कौन सी पुस्तक लिखी थी?

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने “द इंडियन स्ट्रगल (The Indian Struggle)” पुस्तक लिखी थी जो 1920 से 1942 तक के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम या आंदोलन को कवर करती है। इस पुस्तक पर ब्रिटिश सरकार द्वारा प्रतिबंध लगा दिया गया था।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी से जुड़े कुछ अन्य रोचक तथ्य जो आपको पसंद आएंगे।

हमारे महान नेता जी सुभाष चन्द्र बोस जी के बारे में रोचक तथ्य।
Image Credit: Canva | facts in hindi | rochak tathya | रोचक तथ्य |

1. देशभक्ति की बात करें तो वह स्वयं एक आध्यात्मिक देशभक्त थे।

2. जर्मनी में “आजाद हिंद रेडियो स्टेशन” की स्थापना नेताजी ने ही की थी।

3. नेताजी का ऐसा मानना था कि अंग्रेजों को भारत से खदेड़ने के लिए सशक्त क्रांति की ही आवश्यकता है तो वहीं गांधीजी अहिंसक आंदोलन में विश्वास करते थे।

4. नेताजी ने सन 1941 में इटली के विदेश मंत्री गैलियाज़ो सियानो (galliazzo sienna) से मुलाकात की थी। जिन्होंने उनके साथ स्वतंत्रता की घोषणा के मुद्दे पर चर्चा की थी। उस समय नेताजी अपनी पत्नी के साथ करीब 6 हफ्ते रोम में रहे थे।

5. जब नेताजी सुभाष चंद्र बोस कोलकाता नगर पालिका के मुख्य अधिकारी बने तो उन्होंने कलकत्ता के मार्गों का अंग्रेजी नाम बदलकर भारतीय नाम कर दिया था।

6. नेताजी बचपन के दिनों से ही एक विलक्षण छात्र और राष्ट्रप्रेमी थे।

7. नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने भारत की स्वतंत्रता के लिए समर्थन लेने के लिए नाज़ी जर्मनी और जापान की यात्रा करने का फैसला किया था।

8. नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी का मानना था कि श्रीमद्भगवद्गीता उनके लिए प्रेरणा का एक बड़ा स्त्रोत है।

9. नेताजी सुभाष चंद्र बोस 1950 के दशक से लेकर 1980 के दशक के बीच उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में एक गुमनाम साधु के वेश में रह रहे थे।

अगर संघर्ष न रहे, किसी भी भय का सामना न करना पड़े, तब जीवन का आधा स्वाद ही समाप्त हो जाता है।

नेता जी सुभाष चन्द्र बोस

10. सन 1963 में जब सुभाष चंद्र बोस ऑस्ट्रिया में इलाज करवाने के लिए वहां थे। तब उन्हें अपनी पुस्तक लिखने के लिए एक अंग्रेजी जानने वाली टाइपिस्ट की आवश्यकता पड़ी। तब उनके एक मित्र ने एमिली शेंकल(Emilie Schenkl) नाम की ऑस्ट्रियन महिला से उन्हें मिलवाया। फिर सुभाष जी एमिली जी की ओर आकर्षित हुए और दोनों में स्वाभाविक प्रेम हो गया। फिर नाजी जर्मनी के सख्त कानूनों को देखते हुए दोनों ने 1942 में बाड गास्टिन नामक स्थान पर हिंदू पद्धति से विवाह कर लिया था।

11. आजाद हिंद सरकार की अपनी खुद की एक बैंक थी जिसे आजाद हिंद बैंक कहा जाता था। इस बैंक ने ₹10 से लेकर ₹100000 तक के नोट छापे थे। ₹100000 के नोट पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी की तस्वीर छपी थी।

12. नेताजी सुभाष चंद्र बोस जर्मनी से जापान जाने के लिए “वाया मेडागास्कर” नाम की सबमरीन से यात्रा करते थे उस समय इस तरह की और इतनी लंबी यात्रा में बड़े खतरे हुआ करते थे।

13. 3 मई 1939 को नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस के अंदर ही एक “फॉरवर्ड ब्लॉक” के नाम की खुद की पार्टी की स्थापना की थी। कुछ दिन बाद नेताजी सुभाष चंद्र बोस को कांग्रेस से ही निकाल दिया गया था। बाद में फॉरवर्ड ब्लॉक अपने आप एक स्वतंत्र पार्टी बन गई थी।

14. भारत के इतने बड़े आजादी के संग्राम में कूदने के लिए नेताजी चंद्र बोस को सबसे ज्यादा प्रभावित जलियांवाला बाग हत्याकांड ने किया था।

15. यह बात तो आपको भी पता होगी कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी की मौत आज भी एक रहस्य है।

यह भी जरूर पढ़ें 👇

Govinda verma

नमस्ते दोस्तों...🙏 दोस्तों मैं कक्षा 11वीं का छात्र हूं जब मैंने यह Website बनाई। मुझे विज्ञान की उन चीजों को जानना अच्छा लगता है जो आमतौर पर किसी को भी न बताई जाए... और उन्हीं सबको हम रोचक तथ्य कहते हैं। मेरी इस विषय में इतनी रुचि थी की मैंने अपने ज्ञान को बांटना चाहा और फिर मैंने अपनी यह Website 16/06/2021 को बनाई। इस Website पर आपको रोचक तथ्य के अलावा कुछ ऐसे प्रश्नों के उत्तर भी जानने को मिलेंगे जो शायद कभी आपके विचारों में न आए हों। और मेरी भी आपसे यही विनती है की आप हमारी Website के बारे में लोगों को ज्यादा से ज्यादा बताएं ताकि वो भी अपने ज्ञान में वृद्धि कर सके। तो आप सब अपना बहुत सारा ध्यान रखना "जय माता दी"।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *